Love Shayari

Ads

Jan 21, 2019

Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी

Log pahle dosti dosto ki tarah nibhate the lekin aaj-kal log dosti kam dushmani jyada nibhate hai,in dushmani shayari me aapko dushmani nibhane wali shayari padne ko milengi.Thanks 

Dushmani Shayari 

Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Jab jayenge unke ilake me
To sannata pasar jayega
Hume dekh ke dushman ki 
Aankhon me khof nazar aayega
जब जायेंगे उनके इलाके में
तो सन्नाटा पसर जायेगा
हमे देख के दुश्मन की
आँखों में ख़ौफ़ नज़र आएगा
                                                                      
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Seede jaroor hai par waqt aane par
Hume teda hona bhi aata hai
Jab utarte hai apni aukat par
To dushman hume dekhkar hi bhag jata hai 
सीधे जरूर है पर वक़्त आने पर
हमे टेढ़ा होना भी आता है
जब उतरते है अपनी औकात पर
तो दुश्मन हमे देखकर ही भाग जाता है
                                                     
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Mna nhi sake
Nikale the jinko hum manane
Ban gaye dushman 
Chale the jinko dost banane
मना नहीं सके
निकले थे जिनको हम मनाने
बन गए दुश्मन
चले थे जिनको दोस्त बनाने
                                                        
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Beimaan the to humse acche 
Log bhi manne lage
Imandaari ke raste par kya aaye
Dushman hazaar banne lage
बेईमान थे तो हमसे अच्छे
लोग भी मनने लगे
ईमानदारी के रास्ते पर क्या आये
दुश्मन हज़ार बनने लगे
                                                           
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Jo dosti ka geet gaya karte the
Vo dushmani nibhane lage
Sath me jeene-marne ke bajaay
Yaar humare hume hi satane lage
जो दोस्ती का गीत गाया करते थे
वो दुश्मनी निभाने लगे
साथ में जीने-मरने के बजाय
यार हमारे हमे ही सताने लगे
                                                       
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Takat aur himaat ka upyog to hum
Barabar wale ke sath me karte hai
Baaki sabhi to humare jeene ke tarike 
Ko dakhkar hi humse darte hai
ताकत और हिम्मत का उपयोग तो हम
बराबर वाले के साथ में करते है
बाकी सभी तो हमारे जीने के तरीके
को देखकर ही हमसे डरते है
                                                           
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Meri himmat dekhkar bade se bado
Ka pasina chhut jata hai
Jab kadam rakhta hoon main medan me
To dushmano ka hosla tut jata hai 
मेरी हिम्मत देखकर बड़े से बड़ो
का पसीना छूट जाता है
जब कदम रखता हूँ मैं मैदान में
तो दुश्मनो का हौसला टूट जाता है
                                                                 
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Jo hota nhi humara 
Usse kishi ka hone nhi dete
Dushman se badla liye bina
Hum chain hi nhi lete 
जो होता नहीं हमारा
उसे किसी का होने नहीं देते
दुश्मन से बदला लिए बिना
हम चैन ही नहीं लेते
                                                  
Dushmani Shayari | दुश्मनी शायरी
Agar chale jaye jangal me
To sher hadbada jate hai
Dushmano ke dushman bhi 
Hume dekhkar ghabda jate hai
अगर चले जाये जंगल में
तो शेर हड़बड़ा जाते है
दुश्मनों के दुश्मन भी
हमे देखकर घबड़ा जाते है
Have A Nice Day.............Dushmani Shayari

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.