Love Shayari

Ads

Jan 9, 2019

Mehnat Shayari | मेहनत शायरी

Zindagi me bina mehnat kiye sab kuch pana har insaan chahta hai lekin dosto ye zindagi hai jo bina mehnat kiye kabhi bhi kishi ko bhi kuch nhi deti mehnat to karni padegi chahe baad me karo ya pahle.to issi beech aap sab ke liye kuch behatrin Mehnat Shayari prastut ki ja rhi hai. 

Mehnat Shayari

Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Mehnat ko apne jivan me 
Utarke apna sikho 
Agar chamakna hai uss suraj ki 
Tarah to tapna sikho 
मेहनत को अपने जीवन में
उतरके अपना सीखो
अगर चमकना है उस सूरज की
तरह तो तापना सीखो
                                                        
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Agar mehnat ki nazar 
Kishi insaan par padh jaye
To surat ke sath-sath uski
Murat bhi badal jati hai
अगर मेहनत की नज़र
किसी इंसान पर पढ़ जाये
तो सूरत के साथ-साथ उसकी
मूरत भी बदल जाती है


                                                                  
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Logo ko badalte dekha hai
Halato ko sambhalte dekha hai
Mehnat me jara si dhil karne par
Hath me aaye mauko ko fisalte dekha hai
लोगो को बदलते देखा है
हालातो को सँभालते देखा है
मेहनत में जरा सी ढील करने पर
हाथ में आये मौको को फिसलते देखा है
Other Related ShayariesMotivational Shayari
                                                                
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Pakad ke to dekho 
Mehnat ke raste ko yaaro
Haatho ki lakire na badal jaye
To kahna 
पकड़ के तो देखो
मेहनत के रास्ते को यारो
हाथों की लकीरें न बदल जाये
तो कहना
                                                       
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Waada karo khudse
Ki mehnat ka rasta hi apnaoge
Jo waqt mila hai tumhe
Ussi me kuch kar ke dikhaoge 
वादा करो खुदसे
की मेहनत का रास्ता ही अपनाओगे
जो वक़्त मिला है तुम्हे
उसी में कुछ कर के दिखाओगे
                                                          
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Sapne dekhne se hi sab kuch nhi hota 
Unhe pura karne ke liye
Raat-din mehnat karni padti hai 
सपने देखने से ही सब कुछ नही होता
उन्हें पूरा करने के लिए
रात-दिन मेहनत करनी पड़ती है
                                                       
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Jiske andar kaabiliyat hoti hai na
Vo success ke ek din kaabil ho hi jata hai 
जिसके अंदर काबिलियत होती है न
वो सक्सेस के एक दिन काबिल हो ही जाता है
                                                    
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Mat daro haar se
Na kismat par apni bharosa karo
Safalta tumhe avashya milegi
Bas jo bhi karo dil se karo
मत डरो हार से
न किस्मत पर अपनी भरोसा करो
सफलता तुम्हे अवश्य मिलेगी
बस जो भी करो दिल से करो
                                                        
Mehnat Shayari | मेहनत शायरी
Jisne mehnat karne ka hunar sikh liya
Usse duniya ka koi hunar baaz nhi hara sakta 
जिसने मेहनत करने का हुनर सीख लिया
उससे दुनिया का कोई हुनर बाज़ नही हरा सकता

Thanks friends for reading Mehnat Shayari
 

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.