Love Shayari

Ads

Jan 20, 2019

Bachpan Shayari | बचपन शायरी........!

Zindagi ke sabse behatrin lamhe aur din bachpan ke hote hai,na koi kaam ki tension na koi  pareshani bas har samay masti aur sirf masti,bachpan ki yaadein taja karne ke liye kuch bachpan shayari aaye hai.Thanks 

Bachpan Shayari

Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Jilo isse khulkar
Kabhi laut ke nhi aayega
Nikal gaya agar bachpan ek bar
To bhule-bhulaya nhi jayega 
जिलो इसे खुलकर
कभी लौट के नही आएगा
निकल गया अगर बचपन एक बार
तो भूले-भुलाया नही जायेगा
                                                                
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Jahan rah nhi pate the ek pal bhi
Apne dosto ke bin
Bahut yaad aata hai vo school
Aur uske vo na bhulaye jane wale din
जहाँ रह नहीं पाते थे एक पल भी
अपने दोस्तों के बिन
बहुत याद आता है वो स्कूल
और उसके वो न भुलाए जाने वाले दिन
                                                            
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Bachpan me sabhi galtiyan bhi
Mazak laga karti thi
Aur hote hi bade mazak bhi 
Galtiyan ban gayi
बचपन में सभी गलतियां भी
मज़ाक़ लगा करती थी
और होते ही बड़े मजाक भी
गलतियाँ बन गयी
                                                       
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Ghumate the firte the
Har din masti kiya karte the
Ek bachpan hi aisa tha 
Jisme hum khool ke jiya karte the  
घूमते थे फिरते थे
हर दिन मस्ती किया करते थे
एक बचपन ही ऐसा था
जिसमे हम खुल के जिया करते थे
                                                         
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Chote the to har baat par
Tutlaya karte the
Bade kya huye baat karne ka 
Tarika hi badal gaya
छोटे थे तो हर बात पर
तुतलाया करते थे
बड़े क्या हुए बात करने का
तरीका ही बदल गया
                                                      
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Na kaam ki thi chinta
Na paiso ki thi chahat
Bachpan me har waqt rahti thi
Chehre par muskurahat
ना काम की थी चिंता
ना पैसो की थी चाहत
बचपन में हर वक़्त रहती थी
चेहरे पर मुस्कराहट
                                                      
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Bachpan ki shaitaniyan
Yaad mujhe ab aati hai
Joki ki thi maine bachpan me
Vo baate bahut rulaati hai
बचपन की शैतानियां
याद मुझे अब आती है
जोकि की थी मैंने बचपन में
वो बाते बहुत रुलाती है
                                                      
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Bachpan me padai to hume pasand
Hi na thi
Vo to dikhane le liye logo ko
Kiya karte the
बचपन में पढाई तो हमे पसंद
ही ना थी
वो तो दिखाने
के लिए लोगो को
किया करते थे
                                                              
Bachpan Shayari | बचपन शायरी.....
Bachapn me hansate
Muskurate the pure din
Ab nikal jaate hai kai mahine
Kai raatein hanse bin
बचपन में हंसते
मुस्कुराते थे पूरे दिन
अब निकल जाते है कई महीने
कई रातें
हँसे बिन

End.....Of...........Bachpan Shayari

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.