Love Shayari

Ads

Jan 20, 2019

Nafrat Shayari | नफरत शायरी

Nafrat Shayari me bataya gaya hai ki log kish prakar ek dusre se nafrat karte hai aur usse kaise vyakt karte hai.

Nafrat Shayari

Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Imandari ko chhodte hi hum
Nafrat ko kabool kar baite
Jaise hi chhoda sath mohabbat ne 
Hum sarafat bhool baite 
ईमानदारी को छोड़ते ही हम
नफरत को कबूल कर बैठे
जैसे ही छोड़ा साथ मोहब्बत ने
हम सराफत भूल बैठे
                                                      
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Zindagi mili hai,isse khool ke 
Jiyo yaar
Jo tumse karen nafrat 
Tum usse bhi karo pyar 
ज़िन्दगी मिली है,इसे खुल के
जियो यार
जो तुमसे करें नफरत
तुम उससे भी करो प्यार
                                               
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Janm liya hai,to marna abhi tay hai
Iss vinashkari kalyug me
insaan ko insaan se hi bhay hai
जन्म लिया है,तो मरना भी तय है
इस विनाशकारी कलयुग में
इंसान को इंसान से ही भय है 
                                                      
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Mujhe duniya me un sabhi 
Logo se nafrat hai
Jo mere aur meri mohabbat ke
Beech me aake khade hote hai
मुझे दुनिया में उन सभी
लोगो से नफरत है
जो मेरे और मेरी मोहब्बत के
बीच में आके खड़े होते है


Read More Shayari → Dhokha Shayari
                                                        
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Jish shaam tumhe taqlif hogi
Uss shaam humi aayenge
Kitna bhi nafrat karlo humse
Par kaam humi aayenge
जिस शाम तुम्हे तकलीफ होगी
उस शाम
हमी आयेंगेकितनी भी नफरत करलो हमसे
पर काम
हमी आयेंगे
                                                        
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Nafrat ki aag andar-hi-andar
Dilo ko jala deti hai
Humesha apno se
Dur hone ki salah deti hai
नफरत की आग अंदर-ही-अंदर
दिलो को जला देती है
हमेशा अपनों से
दूर होने की सलाह देती है
                                                                   
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Jo dil ke sath-sath
Dimag ko bhi kha jati hai
Samajh nhi aata ye nafrat 
Insaan ko kyun bha jati hai 
जो दिल के साथ-साथ
दिमाग को भी खा जाती है
समझ नही आता ये नफरत
इंसान को क्यूँ भा जाती है
                                                            
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Ruthe huye insaan ko
Pal bhar me mana lete hai
Hum nafrat karne wale dilo me bhi
Pyar jaga dete hai
रूठे हुए इंसान को
पल भर में
मना लेते है
हम नफरत करने वाले दिलों में भी
प्यार जगा देते है
                                                  
Nafrat Shayari | नफरत शायरी
Ek bar madad karke
Jivan bhar dol bajate hai
Matlab ke hai log yahan
Samay par kaam ni aate hai 
एक बार मदद करके
जीवन भर
ढोल बजाते है
मतलब के है लोग यहाँ
समय पर काम
नी आते है

Thanks For Reading Nafrat Shayari

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.