Love Shayari

Ads

Jan 13, 2019

Beti Shayari | बेटी शायरी......लाड़ली बेटी.....

Sunte hi beti shabd hum, kalpana karte hai kishi ki beti ,kishi ki maa,kishi ki bahan,kishi ki bhabhi ye sab bhi to kishi ki beti hi hai,lekin aaj-kal log beti ki jara si bhi izzat nhi karte.issi beech hum kuch beti shayari laye hai.

👌Beti shayari👌

Beti Shayari | बेटी शायरी
Beti jish ghar janm leti hai
Khusiyon se usse bhar deti hai
Halki si muskan se apne
Saare dard har leti hai 
बेटी जिस घर जन्म लेती है
खुशियों से उसे भर देती है
हलकी सी मुस्कान से अपने
सारे दर्द हर लेती है
                                                                
Beti Shayari | बेटी शायरी
Main kali hoon tumhare ghar ki
Mujhe kyoon badhne nhi dete
Chalta hai tumhara vansh mujhse
Mujhe kyoon padhne nhi dete
मैं कली हूँ तुम्हारे घर की
मुझे क्यूं बढ़ने नहीं देते
चलता है तुम्हारा वंश मुझसे
मुझे क्यूँ पढ़ने नहीं देते
                                                              
Beti Shayari | बेटी शायरी
Beti ko padhna chahiye
Beti ko aage badhna chahiye
Agar jaroorat padh jaye to isse
Apne hak ke liye ladna bhi chahiye
बेटी को पढ़ना चाहिए
बेटी को आगे बढ़ना चाहिए
अगर जरूरत पड़ जाये तो इसे
अपने हक़ के लिए लड़ना भी चाहिए
                                                                  
Beti Shayari | बेटी शायरी
Khusiyan paise se nhi
Pyar se badhti hai
Beto me sanskar tab aate hai
Jab betiyan padhti hai
खुशियां पैसे से नहीं
प्यार से बढ़ती है
बेटो में संस्कार तब आते है
जब बेटियां पढ़ती है
                                                            
Beti Shayari | बेटी शायरी
Badhai ho
Saath me apne khusiyon ki shaugat lai hai
Nanhi si pari aaj tumhare ghar par aai hai
बधाई हो
साथ में अपने खुशियों की सौगात लाई है
नन्ही सी परी आज तुम्हारे घर पर आई है
                                                            
Beti Shayari | बेटी शायरी
Main darti ki dhra hoon
Main ambar ka aasman 
Kahno ko main beti hoon
Par hoon har ghar ki pahchan
मैं धरती की धरा हूँ
मैं अम्बार का आसमान
कहने को मैं बेटी हूँ
पर हूँ हर घर की पहचान
                                                   
Beti Shayari | बेटी शायरी
Ghar ki izzat aur ghar ka
Samman hoti hai betiyan 
Bhagwan ka insaan ko
Vardaan hoti hai betiyan
Saja lo inhe apne ghar ki
Roshani samajh kar
Kyoki aati hai khusiyan besumar
Jab meharwan hoti hai betiyan
घर की इज़्ज़त और घर का
सम्मान होती है बेटियां
भगवन का इंसान को
वरदान होती है बेटियां 
सजा लो इन्हें अपने घर की
रोशनी समझ कर
क्योकि आती है खुशियाँ बेशुमार
जब मेहरवान होती है बेटियां
                                                       
Beti Shayari | बेटी शायरी
Beti ki kismat se hi
Tera har muskil kaam bna
Kyoon bhoola iss baat ko tu ki
Tujhe bhi ek beti ne hi jana
बेटी की किस्मत से ही
तेरा हर मुस्किल काम बना
क्यूँ भूला इस बात को तू की
तुझे भी एक बेटी ने ही जाना
                                                           
Beti Shayari | बेटी शायरी
Agar jid aa jaye kuch banne ki
To har muskil kaam vo karti hai
Badal jata hai itihaas 
Jab betiyan udaan bharti hai 
अगर जिद आ जाये कुछ बनने की
तो हर मुश्किल काम वो करती है
बदल जाता है इतिहास
जब बेटियां उड़ान भरती है

Betiyon ki izzat.....izzat hume karni hi chahiye....Beti Shayari..

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.