Love Shayari

Ads

Jan 10, 2019

Darr Shayari | डर पर शायरी

Darr se har insaan dart hai aisa shayad hi koi insaan ho jo na darta ho,bahut se log career ko lekar darte hai ,koi relationship ko leke darta hai,iss darr se darane ke liye nhi ,iss darr se nekalne ke liye kuch Darr Shayari prastut ki jaa rhi hai. 

Darr Shayari

Darr Shayari | डर पर शायरी
Darr lage agar haarne se
To jeetne ki chah mat rakhna
Kyoki udane se darne wale
Kabhi jeeta nhi karte 
डर लगे अगर हारने से
तो जीतने की चाह मत रखना
क्योकि उड़ने से डरने वाले
कभी जीता नहीं करते
                                                                    
Darr Shayari | डर पर शायरी
Jab galti hi nhi meri
To kyo main na kahoon
Jo chad rhe hai mujh par
Unse kyo main daboo. 
जब गलती ही नही मेरी
तो क्यों मैं न कहूं
जो चढ़ रहे है मुझ पर
उनसे क्यों मैं दबू. 


                                                            
Darr Shayari | डर पर शायरी
Main khud-khudko rok nhi pata
To ye jamana mujhe kya rokega
Jab samne khada ho mere jaisa koi sher
To tere jaisa bujdil mujhe kya thokega 
मैं खुद-खुदको रोक नही पता
तो ये जमाना मुझे क्या रोकेगा
जब सामने खड़ा हो मेरे जैसा कोई शेर
तो तेरे जैसा बुजदिल मुझे क्या ठोंकेगा


Other Shayari ----  Jeet Shayari
                                                             
Darr Shayari | डर पर शायरी
Acche karm karne me
Sharm na karo
Agar darane ki koshish kare burai
To bilkul na daro 
अच्छे कर्म करने में
शर्म न करो
अगर डराने की कोशिश करे बुराई
तो बिलकुल न डरो
                                                         
Darr Shayari | डर पर शायरी
Yaad rakhna darr sirf
Usko darata hai
Jo kaam karne se pahle hi
Darr se darr jata hai
याद रखना डर सिर्फ
उसको डरता है
जो काम करने से पहले ही
डर से डर जाता है
                                                                 
Darr Shayari | डर पर शायरी
Agar mehnat karne ke baad
Asafal bhi ho jau
To mujhe darr nhi lagta
Kahin main bina mehnat kiye safal na ho jau
Iss baat ke liye mujhe darr jaroor lagta hai 
अगर मेहनत करने के बाद
असफल भी हो जाऊ
तो मुझे डर नही लगता
कहीं मैं बिना मेहनत किये सफल न हो जाऊ
इस बात के लिए मुझे डर जरूर लगता है
                                                                            
Darr Shayari | डर पर शायरी
Rob to humne apna bahut banaya
Dusman ki dusmani ko imandaari se nibhaya
Jo bante the sher apni gali me kutte
Unhe to humne apne khof se hi daraya 
रॉब तो हमने अपना बहुत बनाया
दुश्मनो की दुश्मनी को ईमानदारी से निभाया
जो बनते थे शेर अपनी गली में कुत्ते
उन्हें तो हमने अपने खौफ से ही डराया
                                                                
Darr Shayari | डर पर शायरी
Na aurat se darta hai
Na shohrat se darta hai
Yakin mano dosto insaan sirf
Aur sirf darr se darta hai 
ना औरत से डरता है
ना शोहरत से डरता है
यकीं मानो दोस्तों इंसान सिर्फ
और सिर्फ डर से डरता है
                                                               
Darr Shayari | डर पर शायरी
Tere husn ka kayal nhi
Mian rooh par marta hoon
Kahin kho na du tujhko main sirf
Iss baat se darta hoon 
तेरे हुस्न का कायल नहीं
मैं रूह पर मरता हूँ
कहीं खो न दूँ तुझको मैं सिर्फ
इस बात से डरता हूँ 

Thanks freinds to read Darr Shayari
 

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.