Love Shayari

Ads

Jan 9, 2019

Jeet Shayari | जीत पर शायरी

Koi bhi insaan kabhi bhi harna nhi chahta, har vyakti ki ye khwaish rahti hai ki vo jo bhi kare humesha usko jeet meele lekin dosto aisa kabhi hota hi nhi hai ki hume har kaam me jeet meele,har insaan ko ek-na-ek baar to haar ka mooh dekhna hi padta hai.Issi jeet par kuch aapke liye jeet shayari aaye hai. 

Jeet Shayari 

Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Pareshani harne me nhi
Haar manne me hai
Majboot irada lekar 
Jitne ki na thanne me hai  
परेशानी हारने में नहीं
हार मानने में है
मजबूत इरादा लेकर
जीतने की न ठान्ने में है
                                                       
Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Haar ke bhi main haar nhi manta 
Jab-tak jeet nhi jata hathiyar nhi dalta 
हार के भी मैं हार नहीं मानता
जब-तक जीत नहीं जाता हथियार नही डालता
                                                             
Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Jab logo ne kaha mujhse
Ki tu jeet nhi payega
Maine bhi than liya 
Ki ab main haar nhi manega
जब लोगो ने कहा मुझसे
की तू जीत नहीं पाएगा
मैंने भी ठान लिया
की अब मैं हार नहीं मानेगा
                                                               
Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Aaj kiya har ek accha karm
Aage marg dikhayega
Na bhi mila swarg to koi nhi
Logo ke dil to jeet hi jayega
आज किया हर एक अच्छा कर्म
आगे मार्ग दिखायेगा
न भी मिला स्वर्ग तो कोई नहीं
लोगो के दिल तो जीत ही जायेगा


                                                      
Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Ye pahad ye parvat 
Ye chotiyan bhi hil jati hai
Jid aati hai kuch paane ki
To asambhaw si lagne wali
Cheeze bhi mil jati hai
ये पहाड ये पर्वत
ये चोटियां भी हिल जाती है
जिद आती है कुछ पाने की
तो असंभव सी लगने वाली
चीज़े भी मिल जाती है
                                                               
Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Main harne ke liye nhi
Jeetne aur sikhne ke liye pedda hua hoon  
मैं हारने के लिए नहीं
जीतने और सिखने के लिए पेद्दा हुआ हूँ
                                                   
Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Maine har parishtithi me apne aapko
Sambhalna sikh liya 
Kya takat aur kya kamjoriyan hai meri
Ye bhi maine dekh liya 
मैंने हर परिष्तिथि में अपने आपको
संभालना सीख लिया
क्या ताकत और क्या कमजोरियां है मेरी
ये भी मैंने देख लिया
                                                          
Jeet Shayari | जीत पर शायरी
Koi jeet jata hai
To koi haar jata hai
Koi sikh jata hai
To koi hathiyar dar jata hai 
कोई जीत जाता है
तो कोई हार जाता है
कोई सिख जाता है
तो कोई हथियार डार जाता है

End........Of.........Jeet Shayari

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.