Love Shayari

Ads

Jan 12, 2019

Mahakal Shayari | महाकाल शायरी......बाबा महादेव की जय

बाबा महादेव की जय.......बाबा महादेव की जय ,बाबा महादेव पर आज-कल काफी शायरी बनने लगी है तो हमने सोचा की क्यों ना अपने दोस्तों के लिए कुछ बाबा महादेव पर बेहतरीन शायरी बनाई जाये,दोस्तों आप इन शायरी को कहीं भी यूज़ कर सकते है.आप इन Mahakal Shayari को पढ़े और जोर से बोले जय हो बाबा महाकाल.धन्यवाद

Mahakal Shayari

Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Mahakal ke rahte ujjain me 
Koi raja ruk nhi sakta
Aur Mahakal ka bhakt 
kishi ke samne jhuk nhi sakta
महाकाल के रहते उज्जैन में
कोई राजा रुक नहीं सकता
और महाकाल का भक्त
किसी के सामने झुक नहीं सकता


                                                    
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Ja kar ke log wahan par
Wahin ke ho jaate hai
Mahakal ke naam ke dinbhar
Jay kaare lagaate hai
जा कर के लोग वहां पर
वही के हो जाते है
महाकाल के नाम के दिनभर
जय कारे लगाते है
                                                            
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Jab-tak sar par hath 
Mahakal ka rahega
Tab-tak me kishi bhi
Mai ka laal se nhi darega
जब-तक सर पर हाथ
महाकाल का रहेगा
तब-तक में किसी भी
मई का लाल से नहीं डरेगा
                                                       
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Mahakal ki nagri me
Mahakal ka raj chale
Hindi ho ya koi ho muslim
Hath jod sab sath khade
महाकाल की नगरी में
महाकाल का राज चले
हिंदी हो या कोई हो मुस्लिम
हाथ जोड़ सब साथ खड़े
                                                          
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Bhang ke aadi hai mere Baba fakir
Jo aaye sharan me badal deta hai uski
Kismat ki lakir
भांग के आदी है मेरे बाबा फ़क़ीर
जो आये शरण में बदल देते है उसकी
किस्मत की लकीर
                                                             
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Kismat sath de to naam banta hai
Aur baba Mahakal sath de
To har kaam banta hai
किस्मत साथ दे तो नाम बनता है
और बाबा महाकाल साथ दे
तो हर काम बनता है
                                                          
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Mathe par tilak
Hatho me kalawa bandta hoon
Mere Mahadev ke alawa main
Kishi se kuch nhi mangta hoon
माथे पर तिलक
हाथों में कलावा
बांधता हूँ
मेरे महादेव के अलावा मैं
किसी से कुछ नहीं मांगता हूँ


                                                   
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Jisko gurror hai paise par
Vo Tik na payega
Jiske sath hai baba Mahakal
Vo bik na payega
जिसको गुरूर है पैसे पर
वो टिक ना पायेगा
जिसके साथ है बाबा महाकाल
वो बिक ना पायेगा
                                                            
Mahakal Shayari | महाकाल शायरी
Bujha na sake aag ko
Aisa to koi paani nhi
Aur Mahakal ke bhakto ka
Duniya me koi saani nhi
बुझा ना सके आग को
ऐसा तो कोई पानी नहीं
और महाकाल के भक्तों का
दुनिया में कोई सानी नहीं
   
Mahakal Shayari.........जय हो बाबा महादेव की....

No comments:
Write Comments

Books

Powered by Blogger.